खिलाड़ियों ने अंतर्राष्ट्रीय स्पर्धाओं में फहराया मध्यप्रदेश का परचम



 
खेलों के क्षेत्र में मध्यप्रदेश ने तेजी से कदम बढ़ाए हैं और राष्ट्रीय और अंती अलग पहचान बनाई है। खेल और युवा कल्याण विभाग द्वारा संचालित विभिन्न खेल अकादमियों के माध्यम से खिलाड़ियों को उपलब्ध कराई जा रही अंतर्राष्ट्रीय स्तरीय खेल सुविधाओं और प्रशिक्षण के सुखद परिणाम सामने आ रहे हैं जिसके चलते अंतर्राष्ट्रीय एवं राष्‍ट्रीय स्पर्धाओं में खिलाड़ी शानदार प्रदर्शन कर पदक जीत रहे हैं। और देश प्रदेश को गौरवान्वित कर रहे हैं।

खिलाड़ियों के लिए वर्ष 2017 उपलब्धियों और सौगातों से परिपूर्ण रहा। इस वर्ष शूटिंग, कराते, जूड़ों, बॉक्सिंग, तीरंदाजी, ताईक्वांडो, कुश्ती, कयाकिंग-कैनोइंग, पुष्ष एवं महिला हॉकी, घुडसवारी, सेलिंग और रोइंग अकादमी के खिलाड़ियों ने अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं 63 पदक अर्जित किए। जबकि राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में 230 पदक जीते। कराते, रोइंग एवं कयाकिंग-केनोइंग खेलों में मध्यप्रदेश राष्ट्रीय चैम्पियन है।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने एकलव्य पुरस्कार विजेताओं को शासकीय नौकरी देने, अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में पदक विजेताओं को बिना परीक्षा के पुलिस में उप निरीक्षक आरक्षक के पद पर नियुक्ति देने और अन्य शासकीय विभागों में भी ऐसी व्यवस्था करने की घोषणा की है।

केन्द्रीय युवा कार्य एवं खेल राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने अपने भोपाल प्रवास के दौरान कानून बनाकर केन्द्रीय सरकारी नौकरियां में खिलाडियों के लिए निर्धारित पदों के आरक्षण की व्यवस्था की बात कही। खिलाड़ियों के लिए आरक्षित पद पर उम्मीदवार नहीं मिलने पर रिक्त पद अगले वर्ष की रिक्तियों में जोड दिये जायेंगे।

खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया मध्यप्रदेश को खेलों के क्षेत्र में नंबर वन बनाने के लक्ष्य पूरा करने में गंभीरता से प्रयास कर रही है और सफल भी होती नजर आ रही है। श्रीमती सिंधिया के सतत प्रयासों और उनकी खेलों में ली जा रही विशेष रूची के चलते खिलाड़ियों को लगातार कई सौगातों मिल रही है।

सौगातों से भरा रहा वर्ष 2017

मध्यप्रदेश के लिए वर्ष 2017 उपलब्धियों और सौगातों से भरा रहा। शूटिंग खिलाड़ियों को जहां विश्वस्तरीय 70 लने वाली 10 मीटर एवं 50 लेन की 25 मीटर अत्याधुनिक शूटिंग रेंज की सौगात मिली, वहीं स्नूकर खिलाड़ियों के लिए नवीन स्नूकर ट्रेनिंग सेंटर का शुभारंभ हुआ। वाटर स्पोर्टस खिलाड़ियों के लिए बड़ी झील पर नवीन जेट्टी का निर्माण किया गया एवं खिलाड़ियों को विश्वस्तरीय नौकाएं (बोट) जैसी सौगात मिली है।

हॉकी खिलाड़ियों के लिए रानीताल जबलपुर में हॉकी एस्ट्राटर्फ, सागर जिले के देवरी और गढ़ाकोटा में मल्टीपरपज इंडोर हॉल, केसली, देवरी, शाहगढ़, गौरझामर और बीना में खेल प्रशिक्षण केन्द्र तथा खुरई में मिनी स्टेडियम का कार्य पूर्ण हुआ जिसका खिलाड़ियों को लाभ मिल रहा है। इसके अलवा छिन्दवाड़ा में मल्टीपरपज इंडोर हॉल, नरसिंहपुर जिले के करेली में मिनी स्टेडियम, शहडोल जिले के ब्यौहरी में खेल प्रशिक्षण केन्द्र, तथा खण्डवा जिले के पुनासा में मिनी स्टेडियम भी खिलाड़ियों को समर्पित किया गया। दतिया में खिलाड़ियों को वाटर स्पोट्रस सेन्टर रूपी सौगात भी मिली जो इस वर्ष की सौगातों में शामिल है।